RSS

बरसो के प्यासे दिल की प्यास बुझाने आया मुद्दतो के बाद .

02 Mar

बरसो के प्यासे दिल की प्यास बुझाने आया मुद्दतो के बाद .
कोई आवारा बादल अपनी चाह जताने आया मुद्दतो के बाद .

ज़िंदा प्यार को दफनाकर कब्र को आज तक ढका नहीं था,
खुला देख दरवाजा वो गूँगी दस्तक देने आया मुद्दतो के बाद .

रात में जो आँखे सोई नहीं थी उसके ख्वाबोंमें आकर रोया ,
ज़रूरतों का वाक़या था,वो जान जलाने आया मुद्दतो के बाद .

जीते जी जिसको पाया नहीं उसे अपना कहने में खतरा क्या,
बेरूखी के अंदाज़में वो चाह गिनाने आया मुद्दतो के बाद .

शीशमहल में जलती रही शमा उम्रके हर एक पड़ाव तक,
अब गिरते मीनारों को वो हाथ लगाने आया मुद्दतो के बाद .

कम्बख्त क़यामत के बाद आज महोब्बत का गाना रोने आया
हमने भी तोबा करली जब वो सुनाने आया मुद्दतो के बाद

रेखा पटेल ( विनोदिनी )

Advertisements
 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: