RSS

मंजिल मिले ना मिले

26 Mar

from google

from google


मंजिल मिले ना मिले मंजिल की राह मिली,
वीरान सफ़र में इन्ही नजरो की आस मिली .

दिल आपको देखकर थम ही जाता मगर,
ओस में डूबी झील सी आँखें ख़ास मिली .

अच्छे बुरे की पहचान लगती थी मुश्किल,
अपनी सूरत दिखाते आइने में साँस मिली .

हया का पर्दा लगे ओठ तो हिलते नहीं थे,
मधुशाला सी भरी आँखों से प्यास मिली .

मेरा कई मर्जो का इलाज तेरी ये आँखें,
मन और धड़कन का एक आवास मिली .
रेखा ( सखी ) 3/18/13

Advertisements
 
Leave a comment

Posted by on March 26, 2013 in Uncategorized

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: